रविवार, 22 फ़रवरी 2009


मेरी चाहत की बहुत लम्बी सज़ा दो मुझ को


इस ग़ज़ल की video देखें : यहाँ

मेरी चाहत की बहुत लम्बी सज़ा दो मुझ को
कर्ब-ऐ-तन्हाई में जीने की सज़ा दो मुझ को

फ़न तुम्हारा तो किसी और से मंसूब हुआ
कोई मेरी ही ग़ज़ल आके सूना दो मुझ को

हाल बे-हाल है, तारीक है मुस्तक़बिल भी
बन पड़े तुम से तो माज़ी मेरा ला दो मुझ को

आख़री शमा हूँ मैं बज़्म-ऐ-वफ़ा की लोगो
चाहे जलने दो मुझे, चाहे बुझा दो मुझ को

ख़ुद को रख कर मैं कहीं भूल गई हूँ शाएद
तुम मेरी ज़ात से एक बार मिला दो मुझ को

poetess : निकहत इफ़्तेख़ार

कर्ब-ऐ-तन्हाई = तन्हाई का दर्द
फ़न = art / poetry
मंसूब = attached
तारीक = dark
मुस्तक़बिल = future
माज़ी = past
बज़्म-ऐ-वफ़ा = वफ़ा की महफ़िल

10 टिप्‍पणियां:

अनिल कान्त : ने कहा…

वाह बहुत खूब भाई

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

वाह बहुत खूब...

राज भाटिय़ा ने कहा…

वाह क्या बात है.बहुत सुंदर
धन्यवाद

Udan Tashtari ने कहा…

आनन्द आ गया-देख सुन कर.

विष्णु बैरागी ने कहा…

एक गजल की दावत में दो का शुमार। दोनों ही गजलें बेहद खूबसूरत रहीं।
इस दावत के लिए शुक्रिया।

venus kesari ने कहा…

mahoday
aapki gajal ke matle ka kafiaa hai
सज़ा दो मुझ को
jiska upyog aapne misra ula aur misra saanee dono me kiya hai aur kaafiaa (ee) ki maatra ko rakha hai

magar aage ke sheron me( दो मुझ को)
kafiya ka istemaal kiya hai jisse gajal me kaafiaa ka dosh aa raha hai aur gajal ka sundary ja raha hai

kripya sudhaar karen

Hyderabadi ने कहा…

अनिल कान्त, महेन्द्र मिश्र, राज भाटिय़ा, Udan Tashtari और विष्णु बैरागी
आप सब का बहुत बहुत शुक्रिया.

venus kesari
प्रिया venus kesari जी,
इस ग़ज़ल की रदीफ़ है : दो मुझ को
और क़ाफ़िया है : (स)ज़ा
इस ग़ज़ल में लफ़्ज़ "सज़ा" के हम-क़ाफ़िया अल्फ़ाज़ यह हैं :
(सु)ना , ला , (बु)झा , (मि)ला
बुरा ना मानें , आप शायद रदीफ़ और क़ाफ़िया में confuse हो रहे हैं.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत सुंदर लगा हर एक शेर

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

bahut khoob

Santhosh ने कहा…

hi, it is nice to go through ur blog...well written...by the way which typing tool are you using for typing in Hindi...?

now a days typing in an Indian language is not a big task...recently i was searching for the user friendly Indian Language typing tool and found.. "quillapd". do u use the same....?

heard that it is much more superior than the Google's indic transliteration..!?

Expressing our views in our own mother tongue is a great feeling..and it is our duty too. so, save,protect,popularize and communicate in our own mother tongue...

try this, www.quillpad.in

Jai...Ho....