मंगलवार, 6 जनवरी 2009


यह बच्चे सब के बच्चे हैं



मासूम से प्यारी जानों पर
यूँ बम जब तुम बरसाते हो
क्या हाल हुआ है आख़िर को
एक बार सही पर तुम देखो
जो घायल हुआ है छर्रों से
जो मलबे तले है दबा हुआ
वह जूते पहने सोया था
वह शाएद किसी की गुडया है
वह देखो हाथ जो दिखता है
एक feeder हाथ में पकड़ा है

ऐसे ही कितने बच्चे हैं
मासूम फरिश्तों जैसे हैं
क्या लेना इनको मज़हब से
क्या काम है इनका नफ़रत से
मासूम हैं यह तो सच्चे हैं
यह बच्चे सब के बच्चे हैं !!

6 टिप्‍पणियां:

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

मासूम बच्चोँ को जो भी तकलीफ पहुँचाता है उन सभी पर
मुझे भी बहुत रोष है

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना, क्यो फ़ोडते है यह लोग बम, क्यो नही सुख से रहते ओर रहने देते???

बेनामी ने कहा…

Hyderabadi jee aapki kavita ne to sanwednaon ko choo liyaa.Aapke dwara pesh kiye gaye hridaysparshi chitra ne to mumbai hamle me anaath huye israeli MOSHE ki chitkaar-chinghaar ko gunjaimaan kar diya.Nischit hi dono jagah wednaon ki gahrayi ek hi hai.
Hamas bhale hi 70lakh ke israel ko nistenaaboot karna chahta ho aur israel apne astitva ko bachane ke bahane hamas ki kamar tod reha ho,In sabhyataaon ki ladai me kitni asabhyata se hum ek duje ko ek doosre se shrestha saabit karne me lage huye hain.Kya dono taraf ke jaanwaron me insaaniyaat ki itni kami ho gayi hai ki in bacchon kaa marm unke dilon ko nahi pighlaata?Aakhir kab talak hum aise hi ladte rahenge?Aakhir kab hum samjhenge ki insaano par hindu,muslim,isai,israeli,philistini ki kashidaakari khud hum insaano ne hi kiya hai ,uparwaale ne to hume sirf aur sirf insaan bana kar bheja tha !

बेनामी ने कहा…

Are hyderabadi jee mai aapke blog par november-december ke post me moshe ka chitra dhoondhta rah gaya!maine socha in bacchon ki tarah us bacchhe ke dard ka bhi ahsaas aapko hua hoga........

बेनामी ने कहा…

?

विनय ने कहा…

नये वर्ष की शुभकामनाएँ आपकी कविता पापियों की आँखें खोल तो बहुत अच्छा हो!

---मेरा पृष्ठ
गुलाबी कोंपलें